गुरुवार, 26 मई 2011

दर्द में ...

वहम तोड़ने के लिए ईश्वर जो करता है
वह खुद भी उस दर्द में सो नहीं पाता ...


- रश्मि प्रभा

8 टिप्‍पणियां:

  1. आज अर्थ की गहराई छू नहीं पाया!!

    जवाब देंहटाएं
  2. अपने बन्दों को प्यार जो इतना करता है

    जवाब देंहटाएं
  3. अच्छा!! ईश्वर हमें हमारी भ्रांति तोडकर जो दर्द देता है, खुद ईश्वर भी हमारी उसी वेदना से दुखी रहता है।

    जवाब देंहटाएं
  4. aur sayad ye hi ham nhi jante hai... bhut gahra chintan...

    जवाब देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...