सोमवार, 13 जून 2011

समर्पण ...

बिना विश्वास प्रेम संभव नहीं

बिना प्रेम समर्पण संभव नहीं ....

- रश्मि प्रभा





10 टिप्‍पणियां:

  1. सटीक कहा है ..प्रेम में विश्वास ज़रूरी है ..

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सही कहा है आपने ।

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रेम और विश्वास ही समर्पण की राह चुनते हैं ...
    सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  4. बिल्कुल सही कहा है आपने! बिना विश्वास प्रेम कभी भी संभव नहीं है!

    जवाब देंहटाएं
  5. prem samarpan aur vishwas ek hi paati ke chakke hain

    जवाब देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...