शुक्रवार, 20 जून 2014

चिंतन ....

किसी के आगे इतना मत झुको कि अपनी पहचान न रहे,
न ही किसी को इतना झुकाओ कि तुम तानाशाह लगने लगो .... 


- रश्मि प्रभा 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...