सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

बातों का तथ्‍य ...

जैसे जैसे वक़्त गुजरता है
बड़ों की कही बातों का तथ्य समझ में आने लगता है ...!!!

- रश्मि प्रभा

5 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन के अनुभव से जो सिखा जा सकता है ,वह ज्ञान किसी किताब में नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा है ... लेकिन तब तक वक्त निकल जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बडों के अनुभव का लाभ उठाए, तब तक वक्त गुजर ही जाता है।
    और हम स्वयं बदे बन जाते, यथार्थ तब समझ आता है। और हमारी इस चुक-अनुभव से सीख लेने वाला नहीं होता। अन्ततः वह भी बड़ा बनकर महसुस करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi sahi baat kahi hai apne..
    bade - bujurgo ki bato ko kabhi neglect nhi karna chahiye..vo apne anubhav se hi hame sikhate hai..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया ||

    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...