सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

अक्‍सर ...

बुरा बदल जाए तो अच्छी बात है ...
पर अक्सर अच्छे बदल जाते हैं !!!
- रश्मि प्रभा 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच जब अच्छे बदल जाते है तो बहुधा दुःख होता है....
    और जब बुरे बदलते हैं तो अच्छा तो लगता ही है..
    ..बहुत बढ़िया गहरी बात.
    धनतेरस और दीवाली की शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति |

    शुभ-दीपावली ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. ाअच्छे को बुरा बनने में श्रम नहीं लगता, जबकि बुरे को अच्छा बननें में श्रम और सब्र दोनो लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बुराई अपनी ओर अधिक आकर्षित करती है , इसलिए बुरा बन जाना आसान है जबकि सत्य की राह काँटों भरी है , सबका इसपर चलना संभव नहीं , इसलिए बुरों का अच्छा बनना मुश्किल है , मगर हम उम्मीद तो रखते हैं!

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...