बुधवार, 25 मई 2011

लोहा ....

चोट खाकर कोई अपाहिज हो जाता है
शरीर दिल और दिमाग - तीनों से
पर कोई लोहा बन जाता है ...
तुम पर है चयन !

- रश्मि प्रभा

13 टिप्‍पणियां:

  1. बेशक!!
    चोट ही लोहे को गढती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो लोहा बन जाता है वही तो जी पाता है|
    सटीक क्षणिका|

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह तो व्यक्ति की इच्छा-शक्ति और जीवन के प्रति उसके दृष्टिकोण पर निर्भर करता है.सकारात्मक सोच एक अपाहिज में भी हिमालय की चोटी पर चढ़ने का जज्बा पैदा कर देता है.अत्यंत विचारोत्तेजक विचार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. koi jindgi bhar khada hi nahi ho pata..bas vahi dam tod deta hai...

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...