सोमवार, 2 मई 2011

वक्‍त ...

मूर्ख बनानेवाला अपनी काबिलियत पर मुस्कुराता है
वक़्त उस पर मुस्कुराता है.....!!

- रश्मि प्रभा

8 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सच| कर्मों का फल तो देर-सबेर मिलता ही है|

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है, पर मुर्ख बननेवाले पे हर कोई हँसता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक!! आखिर तो वक्त य्सके कर्म को निर्थक सिद्ध कर देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी दीदी दोनों पर मुस्कराती हैं....क्योंकि वक़्त भी कौन सा बड़ी स्थिर वस्तु है !

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...