सोमवार, 23 मई 2011

अहम भूमिका ....

दुनिया के सारे कार्य प्रभु की मर्जी से नहीं होते,
शैतान की भी अहम भूमिका होती है .........।।


- रश्मि प्रभा

13 टिप्‍पणियां:

  1. जी हाँ बिलकुल ठीक बात है -
    अलबत्ता शैतान को दूर भागने या मार गिराने की कोशिश में बहुत शक्ति खोती जाती है ...!!
    गहन सोच के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. satya hai..
    nakraatmak ,vinaashak shaktiyaan
    aur prabhu ki shaktiyaan dono hain vyaapt...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ठीक वैसे ही ... मित्र हमें गुमराह नहीं करता , गुमराह करनेवाला दुश्मन होता है , वही गड्ढे बनाता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्‍य वचन ... बिल्‍कुल सही कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. bat to sahi hai, ishvar kabhi anachar aur galat marg par chalane ki rah nahin dikhata hai. hamare achran ko shaitan hi digbhramit kr sakta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. भगवान और शैतान,श्रृष्टि और विनाश शायद एक ही सिक्के के दो पहलु हैं पर दोनों की मूर्तता अलग-अलग,अस्तित्व अलग-अलग,सो कर्म परिधि भी अलग-अलग.बहुत सुन्दर एवं सूक्षम जीवन-दर्शन.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मात्र 17 शब्दों में आपनें कर्म सिद्धांत, जीवनदर्शन और मानसिकताएं उल्लेखित कर दी।

    गागर में सागर!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. aur shaitan ko dhanyavaad jiski wajah se prabhu ko apne hone ka ahsaas karwana padta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. और वो शैतान हमारे अन्दर ही कहीं छुपा होता है

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...