शुक्रवार, 27 मई 2011

संस्कार ....

झूठ की दीवारें लांघकर जो संस्कार सिखाते हैं
उनके शब्द कभी जिए हुए नहीं होते....

- रश्मि प्रभा

10 टिप्‍पणियां:

  1. वो क्या रास्ता दिखायेंगे
    जिनकी आँखों में परदे पड़े हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. जाके पांव न फटी बिवाई वह क्या जाने पीर पराई!!

    झूठे संस्कार जिए हुए होते ही नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi achchi baat kahi aapne,aabhaar


    please visit my blog and leave a comment also.thanks

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...