बुधवार, 11 मई 2011

क्षितिज का सत्य ..

क्षितिज की असाधारण छवि का साधारणीकरण
कोई मूर्ख ही कर सकता है
क्षितिज का सत्य
सिर्फ क्षितिज जानता है ...!!

- रश्मि प्रभा


8 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ... आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी बात सोलह आने सच है,दीदी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. रश्मि जी आपने बिल्कुल सही फ़रमाया है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. kabhi kabhi hum jaise gujaratiyo ko na samaj aaye to samja bhi diya karo...bahut bhari pad jata hai kabhi kabhi ye hindi... :)koshish puri karti hu par kabhi kabhi...

    उत्तर देंहटाएं
  5. didi pranam !
    sahi hai ki kshitij ko naap nahi sakte .magar parwaaj udaan bhar sakti hai ek apna prayaas unhe chune ka kar sakti hai .
    saadar

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...