शनिवार, 18 अगस्त 2012

चिंतन ...

जाने सच किस कोने में बैठा है होठों पर पपड़ी लिए, 
झूठ की मशालें इतनी जला दी गईं कि सच के फ़फोले डराने लगे ... 

- रश्मि प्रभा 

3 टिप्‍पणियां:

  1. होंठों पर सच यूँ जमा, ज्यों शिखरों पर बर्फ ।

    पपड़ी परतों में जमीं, जमें सत्य के हर्फ़ ।

    जमें सत्य के हर्फ़, दर्प की जली मशालें ।

    रहा जलाता मर्म, फफोले जलते छाले ।

    रविकर अब निश्तेज, भेज कोई रखवाला ।

    कैद करे ये झूठ, लगाए मरहम आला ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच के फ़फोले समय के मलहम से ठीक हो कुंदन बन निखर जायेंगें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य के प्रति आस्था फफोलों का मरहम है।

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...