बुधवार, 29 अगस्त 2012

चितन ...

संत, धर्मात्मा .... उनके जीने की राह , उनका आशीष -
दिखावा , ईर्ष्या, कटुता , छल , हिंसा ,
भौतिकता की चमक दमक से दूर करता है
जो खुद लिप्त है - वह ज्ञानी हो सकता है ,
पर संत धर्मात्मा नहीं
और उसके अनुयायी तो ढकोसले से बढ़कर कुछ नहीं !!!
- रश्मि प्रभा 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 01/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो खुद लिप्त है - वह ज्ञानी हो सकता है ,
    पर संत धर्मात्मा नहीं
    बिलकुल सही !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. फिलवक्त तो वह कहीं और हैं संत भी महात्मा भी यहाँ सक्रिय है उनका विज्ञापन विभाग पूरी चमक दमक आभा के साथ ,हर चैनल पे काई कई संत महात्मा हैं इनका भी एक कम्पीटीशन होना चाहिए बा -तर्ज़ लिटिल चेम्प्स .
    विचार आपका यकीनन
    बुधवार, 29 अगस्त 2012
    चितन ...
    संत, धर्मात्मा .... उनके जीने की राह , उनका आशीष -
    दिखावा , ईर्ष्या, कटुता , छल , हिंसा ,
    भौतिकता की चमक दमक से दूर करता है
    जो खुद लिप्त है - वह ज्ञानी हो सकता है ,
    ram ram bhai
    शनिवार, 1 सितम्बर 2012
    अमरीकियों का स्वान प्रेम और पर्यावरण Home is where My dog is. रोज़ शाम को घूमने के लिए निकल जाता हूँ .दिन

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...