बुधवार, 23 मार्च 2011

अपना आक्रोश ....

चीजें फ़ेंककर अपना आक्रोश वे दिखाते हैं
जो सच को सुनना ही नहीं चाहते ........!!


रश्मि प्रभा

8 टिप्‍पणियां:

  1. क्या सचमुच ?
    मैं भी कर देती हूँ ऐसा कभी -कभी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजकल की दुनिया में दीदी, सच को झुठला देना बहुत आसान हो गया है ! सच एक लाचार बलि के बकरे से ज्यादा कुछ नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह आत्म चिंतन पाठक को भी आत्म चिंतन के लिए बाध्य करता है।
    बहुत सुंदर विचार।

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...