शनिवार, 5 मार्च 2011

बीज लगाते जाओ ...

संस्कारों की मिट्टी हमेशा
ज़रखेज़ (उपजाऊ) होती है
अनवरत बीज लगाते जाओ ...।।


- रश्मि प्रभा

6 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्‍कुल सच ....प्रेरणात्‍मक विचार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेरणात्‍मक विचार| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. एकदम सही बात, पुराने गलत संस्कारों का त्याग ज़रूरी है, नए अच्छे संस्कारों का निर्माण ज़रूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...