शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

आंखे बन्‍द कर ...

प्‍यार आंखे बन्‍द रखता है
पर जिसे प्‍यार करता है,
उसे आंखे बन्‍द कर चलना नहीं सिखाता .....!!


- रश्मि प्रभा

1 टिप्पणी:

  1. सच कहा ,तब प्यार अनगिनत नयन बन सिर्फ़ उसे ही निहारता रहता है और आंखें खुली रखने को प्रेरित करता है ।

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...