शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

इन्द्रधनुष ....

रंग अपनी मर्ज़ी से गडमड करके जितना बना लो
इन्द्रधनुष किसी किसी के हाथ ही आता है ....!!

- रश्मि प्रभा

5 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ..सही बात ...सही रंगों का संयोजन सब कहाँ कर पाते हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा आपने ,रंगों में सन्तुलन लाने के प्रयास में ही जीवन बीत जाता है .....

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...