शनिवार, 2 अप्रैल 2011

समझो प्‍यार है ....

बिना प्‍यार के कोई अपना नजरिया नहीं बदल सकता

नजरिया बदल जाये तो समझो प्‍यार है ..............।।

- रश्मि प्रभा
-

1 टिप्पणी:

  1. वाह क्या बात कही है ..सोचना पड़ेगा ...कभी कभी बेमतलब की बहसबाजी से बचने के लिए भी तो नजरिया बदल दिया जाता है ..क्या ऐसा नहीं है :):)

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...