मंगलवार, 19 अप्रैल 2011

कुम्हार का हाथ ....

सही है बच्चों को जिस सांचे में ढालो , वैसा ही रूप लेते हैं
पर कई बार कुम्हार का हाथ चाक से फिसल जाता है ....!!

- रश्मि प्रभा

14 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय रश्मि प्रभा जी एवं आपको बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल सही ...पर कभी कभी हाथ न भी फिसले पर बर्तन चाक पर ही चढने को तैयार नहीं होता ...:):) और ले लेता है अलग ही रूप ...ऐसा मैंने सच्ची के बर्तनों को भी होते देखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीदी,बहुत सुंदर,सटीक और प्रेरणादायी उक्ति है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. चिंतनीय उक्ति ! सच यदि सृजनकर्ता का हाथ ही फिसल जायेगा तो सृजन का क्या भविष्य होगा ! इसीलिये रचनाकार की दायित्व बहुत बढ़ जाता है ! बहुत खूबसूरत विचार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सृजन हमेशा सर्जक के इच्छानुसार ही नहीं होता है, हम बनाना कुछ और चाहते हैं और बन कुछ और जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय संगीता दी से पुर्णतः सहमत्।

    शानदार उत्प्रेरक विचार है।
    सहज फ़िसलन, बेध्यानी की फ़िसलन, आलस्य की फिसलन और थकान से फिसलन।

    चाक का सहज उबडखाबड चलना, जल्दबाजी से उबडखाबड चलना या धूरी का खराब होना।

    माटी के लौंदे में कठीनता की अधिकता, नरमी की अधिकता, चिकनाई की अधिकता या कम चिकनाई का होना। या फ़िर चाक के केन्द्र में न स्थापित होना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोनों ही बात है ...
    अक्सर बच्चे उसकी सांचे में ढलते हैं , जिनमे ढला जाए , मगर अपवाद भी होते ही हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. फिसलने वाले हाथ ...किसी का निर्माण कैसे कर सकते है

    उत्तर देंहटाएं
  9. na chahte hue bhi fisal jata hai..:)
    kaun sa kumhar apne bartano ka sahi roop nahi dena chahega..

    उत्तर देंहटाएं
  10. ना चाहते हुए हाथ फिसल जाते है ......पर सभी दोष भी तो कुम्हार को ही तो देते है मुकेश ....उसका दोष ना होते हुए ही ..वो दोषी बन जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. koi kumbhar nahi chahega..par aisa hota hai ye bhi sahi hai..kabhi kabhi to mata pita ko malum bhi nahi padta ki unke bachcho ki kya durdasha ho jati hai..

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...