सोमवार, 4 अप्रैल 2011

दर्द की पैदावार .....

जो कभी साथ नहीं होते , उनसे उम्मीदें पालना
दर्द की पैदावार बढ़ाना है ........!!

- रश्मि प्रभा

3 टिप्‍पणियां:

  1. सही है .......
    कभी कभी जो साथ होते हैं उनसे उम्मीद पालना भी दर्द की पैदावार बढा देता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. saath ka arth , saath rahna nahi , saath to door hoker bhi hota hai aadmi aur wahan ummeeden swatah poori hoti hai... ek kee ummeed ek ka sapna banta hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. Umeed rakhna hi dukhdaayi hota hai...! bina umeed ke kuch karna sach maayno main sukun de jata hai...ILu..!

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...