शनिवार, 6 अगस्त 2011

सच से वाकिफ ....

हम अपने हर सच से वाकिफ होते हैं
पर पलक झपकते उसे झूठ बना देते हैं
और पूरी सच्चाई के साथ उसपे अड़े रहते हैं ...!!!!

- रश्मि प्रभा

11 टिप्‍पणियां:

  1. .





    हम अपने हर सच से वाकिफ होते हैं
    पर पलक झपकते उसे झूठ बना देते हैं
    और पूरी सच्चाई के साथ उसपे अड़े रहते हैं ...!!!!



    बिल्कुल सच बात है …

    सुंदर विचार … उपयोगी चिंतन !
    आभार !!
    हार्दिक शुभकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!! झूठ पर सच्चाई के साथ अटल!! क्या खुबसूरती से तीखी बात कही!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सच बात है ये....और उसी झूठ में जीते हुये ही हम उसे ही सच समझ लेते है.....जो नहीं है...बस कल्पना है...उसे मूर्त देने में लग जाते है...बस अपने अहम् को पालने हेतु.....।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिल्कुल सच कहा आप ने आज हम झूठ को सच साबित करने की कोशिश में पूरी सचाई से लगे रहते है...सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  5. विडम्बना यह होती है कि हम उस सच को जानते हुए भी उनके झूठ को स्वीकार कर लेते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर रचना ! लाजवाब प्रस्तुती!

    आपके पास दोस्तो का ख़ज़ाना है,
    पर ये दोस्त आपका पुराना है,
    इस दोस्त को भुला ना देना कभी,
    क्यू की ये दोस्त आपकी दोस्ती का दीवाना है

    ⁀‵⁀) ✫ ✫ ✫.
    `⋎´✫¸.•°*”˜˜”*°•✫
    ..✫¸.•°*”˜˜”*°•.✫
    ☻/ღ˚ •。* ˚ ˚✰˚ ˛★* 。 ღ˛° 。* °♥ ˚ • ★ *˚ .ღ 。.................
    /▌*˛˚ღ •˚HAPPY FRIENDSHIP DAY MY FRENDS ˚ ✰* ★
    / .. ˚. ★ ˛ ˚ ✰。˚ ˚ღ。* ˛˚ 。✰˚* ˚ ★ღ

    !!मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये!!

    फ्रेंडशिप डे स्पेशल पोस्ट पर आपका स्वागत है!
    मित्रता एक वरदान

    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...