शनिवार, 27 अगस्त 2011

नदी बनना ....

समंदर बनने की ख्वाहिश लिए
लोग नदी बनना भूल जाते हैं ......!!!

- रश्मि प्रभा

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस बेहतरीन विचार ने तो नि:शब्‍द कर दिया ...गहन भाव लिये उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा ... वैसे तो इंसान एक बूँद भी बन जाये तो जीवन सार्थक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह असली मोतियों की माला है यह ब्लॉग

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसका सच किसने जाना ...
    नदी के बहाव को नहीं समझते , तो समन्दर बन जाने की ख्वाहिश मिथ्या ही है!

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...