मंगलवार, 4 सितंबर 2012

चिंतन ...

जटायु होना न सहज है , न सरल है . और अधिकाँश लोग सीख भी नहीं सकते , क्योंकि उनकी उत्सुकता अपनी मंशा में होती है .... जैसे वह पूछेगा , सीता को कैसे पकड़ा था रावण ! या - मारा वारा भी क्या !! जटायु आदमी नहीं था न !!!

- रश्मि प्रभा 

3 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी गहन सोच
    हम लोगों का मन अब आधुनिक हो गया है न
    हमारी सोच सिर्फ हँसने-हँसाने मे ही सिमट गई है

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदमी होना ही तो भयानक है ... गहन चिंतन

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...