गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

चिंतन ...

सहनशील होना ज़रूरी है 
पर सहनशीलता इतनी भी अच्छी नहीं 
कि कोई आपके सर पर पूरा आकाश रख दे 
और आप उफ़ तक ना करें ....
अति सहनशीलता सामनेवाले को हिंसक बनाता है। 
- रश्मि प्रभा 

3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. उनके लिखे शब्द कभी संयम सिखाते हैं तो कभी सबक देते है .... मन को चेतना देती हुयीं उत्कृष्ट पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा आपने एक सीमा तक सहनशीलता रहती है अति होने पर कमजोरी का रूप ले लेती है … आभार

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...