गुरुवार, 6 सितंबर 2012

चिंतन ...

कितना भी लिखो, कहो, दुहराओ... 
अनकही ही रह जाती है ज़िन्दगी !!!

- रश्मि प्रभा 

2 टिप्‍पणियां:

  1. ज़िन्दगी
    भावनाओं का समुद्र है,
    मृत्यु तक भावनाओं की
    एक एक बूँद गिराते रहो
    कभी भरता ही नहीं,
    अधूरा नज़र आता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. उस अनकहे को कहने सुनने की सामर्थ्य हमको माँ शारदा ने दी है ...शब्दों में उतार सकते है हम :-) मां के प्यारे बच्चे

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...