गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

चिंतन ...

श्रेष्ठ वह है जो सच के साथ अडिग रहे .... 
छुपकर वार वही करते हैं जो झूठ की बैसाखियों पर होते हैं 

- रश्मि प्रभा 

9 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सही ! लेकिन कभी-कभी सत्य इतना वीभत्स एवँ भयावह होता है कि उसके साथ होने पर श्रेष्ठता का नहीं वरन शर्मिंदगी का एहसास होता है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. लेकिन जब सच ही शर्मनाक हो तो क्या करे ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 17/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कभी कभी सच हृदय विदारक होता है तब उसे भी बैसाखियों की आवश्यकता पडती है !

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...