शनिवार, 30 जुलाई 2011

लक्ष्‍य की नींव ....

लोग कहते हैं जीवन में लक्ष्‍य साधो अर्जुन की तरह,
भावनाओं में मत उलझो पर ..........
भावनाएं ही लक्ष्‍य की नींव होती हैं ........।


- रश्मि प्रभा

3 टिप्‍पणियां:

  1. hmmm... par kabhi kabhi aisa bhi lagta hai jaise kuch bhavnae hame hamare lakshya se door kar deti hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. निश्चि्त ही 'भावनाएं' लक्ष्‍य की नींव होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bina bhawnaaon ke lakshya mumkin nahin , kamzoriyaan lakshya se gumraah karti hain aur is antar ko janna hai ...

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...