शुक्रवार, 29 जुलाई 2011

चिंतन अपेक्षित है.......

चीखनेवाला व्यक्ति कभी सही नहीं होता
नहीं चीखनेवाला व्यक्ति जब चीखता दिखाई दे
तो चिंतन अपेक्षित है.........
- रश्मि प्रभा

5 टिप्‍पणियां:

  1. जब कोई चीख कर अपनी बात सुनाना चाहता है तो वो खुद अपने दिल से उठती बात नहीं सुनना चाहता .......
    शांत व्यक्ति जब चीखता है तो उसकी इस पीड़ा के नेपथ्य में कितने बवंडर होते अहि

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक बात!! लोग अक्सर इस तथ्य से अनजान रहते। व्यक्ति तभी चीखकर बताना चाहता है जब उसे स्वयं को अविश्वास होता है कि वह सही कह रहा है। या बात तर्कसंगत नहीं होती। अथवा मिथ्या आरोप प्रत्यारोप होता है।
    यही चिंतन अपेक्षित होता है।

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...