सोमवार, 13 जून 2011

समर्पण ...

बिना विश्वास प्रेम संभव नहीं

बिना प्रेम समर्पण संभव नहीं ....

- रश्मि प्रभा





10 टिप्‍पणियां:

  1. सटीक कहा है ..प्रेम में विश्वास ज़रूरी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम और विश्वास ही समर्पण की राह चुनते हैं ...
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही कहा है आपने! बिना विश्वास प्रेम कभी भी संभव नहीं है!

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...