शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

नई सुबह ....

ज़िन्दगी जब विशेष बननी होती है तो तूफानों के

मध्य ही गुजरती है, हताशा निराशा के खेल दिखाती है

और फिर एक नई सुबह देकर जाती है ... इस नई सुबह

को पाने की अवधि बड़ी लम्बी होती है .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. एक आसान जिन्दगी सबके हिस्से में नहीं आती और अगर आती है तो उसे जिन्दगी के माने नहीं पता हो पाते हैं. जिन्दगी वही है जिसको पाने में और पाने के लिए खुद ही संघर्ष करना पड़े. हमारी ये लड़ाई लम्बी तो हो सकती है लेकिन विजय आखिर में सुनिश्चित है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस नयी सुबह को पाने की अवधि लम्बी होती है ...बस कोई इतना इंतज़ार करने का साहस रखता हो या फिर जिंदगी इतनी मुहलत दे दे !

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...