मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

'' परिणाम ''

महाभारत और गीता आज भी सत्य हैं, क्योंकि उसमें

हर तरह की बुराई दिखाई गई है, जिससे आम इन्सान

उसमें शामिल होने से पहले परिणाम सोच ले ..........।


- सुमन सिन्‍हा

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कही बात सही है पर लगता है कलयुग में सबकुछ उल्टा हो रहा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्कार !
    गीता को अगर कोई आत्मसात करे तो दुनियादारी क्या है , जीव क्या है और जीवन क्या है वो भली भाँती समझ जाए . ,
    साधुवाद ! उतम विचार के लिए .!

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...