शनिवार, 22 जून 2013

चिंतन ...

सहनशीलता,विनम्रता,दानवीरता,हर परिस्थिति में खुश रहने की कला भी एक कर्म है,जिसका फल अन्याय के रूप में मिलता है = क्यूँ? क्योंकि अन्याय करनेवाला इस विशिष्टता को खत्म करने के हर हथकंडे अपनाता है .  प्रकृति के साथ खिलवाड़ प्रकृति का कर्म नहीं, प्रकृति मौन भुगतती है ... 
पर,प्रकृति हो या मनुष्य - उसके साथ किये गए अन्याय का प्रतिकर्म उसकी प्रतिध्वनि,स्वतः मुड़ती है -


- रश्मि प्रभा

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही गहन विश्लेषण!!
    सद्कर्मों की अन्याय में प्रतिक्रिया, वस्तुतः सदगुणों को परास्त करने की मनोवृति से उपजती है। किन्तु सद्कर्मों का अन्ततः प्रतिफल सुफल ही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. न्याय ही टिकता है ....शाश्वत सत्य की तरह ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन एवं विचारणीय प्रस्तुति । बधाई । सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...