शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

इश्क का नशा ...


इश्‍क का नशा किसी भी नशे से बढ़कर चढ़ता है, 
कितना भी निम्‍बू इमली खिलाओ, 
नशा उतरता नहीं  ....!!!
 
- रश्मि प्रभा 

5 टिप्‍पणियां:

  1. ishq kaa nashaa
    utaarne ke liye nahee kiyaa jaataa
    nashaa chadhaa rahe is koshish mein
    ishq karne waalaa jeetaa rahtaa

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही बात है ,,,,
    इस बात पर एक गीत याद आ गया
    " तेरे इश्क़ कि दिवानगी सर चढकर बोले "

    उत्तर देंहटाएं
  3. नशा उतरता नहीं ....!!!
    aur nimbu-imli bekar ho jata hai....

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...