शुक्रवार, 10 मई 2013

चिंतन ...

आलोचना करना भी अद्भुत असाधारण क्षमता है 
आवेशित,आक्षेपित मार्ग से अलग सही ढंग से सही-गलत को 
प्रस्तुत करना सबके वश की बात नहीं ! 
 
- रश्मि प्रभा 


5 टिप्‍पणियां:

  1. प्रशंसा करने से कहीं दुष्कर आलोचना करना है वह भी बिलकुल तटस्थ आलोचना ! किसी भी तरह के पूर्वाग्रह से एकदम स्वतंत्र !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच में निष्पक्ष आलोचना करना बहुत कठिन कार्य है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आलोचना करने के लिए ज्ञान का असीमित भंडार चाहिए ..
    इसी वजह से आलोचना करना आसान काम नहीं .....

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...