बुधवार, 3 अप्रैल 2013

चिंतन ...

जो अकबका कर तुमसे व्यक्तिगत बात कह जाये,
उसे किसी और से कहना तुम्हारे व्यक्तित्व को हल्का करता है ...

- रश्मि प्रभा 

6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभकामनायें-
    सुन्दर प्रस्तुति -

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष पोस्ट को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहते है -" बंधी मुट्ठी लाख की ,खुल जाए तो खाक की" =उत्तम प्रस्तुति
    latest post वासन्ती दुर्गा पूजा
    LATEST POSTसपना और तुम

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...