शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

सोच की डोर ....!!!

खुद को किश्तों में मरते देखने से बेहतर है
सोच की डोर ही काट दो ...!!!
 
- रश्मि प्रभा 

6 टिप्‍पणियां:

  1. soch kee dor kabhee nahee kat saktee
    aatmchintan,sabr aatmanveshan aur dhyaan se dishaa parivartit kee jaa saktee hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोच की डोर कटने का तात्पर्य शायद समझ में नहीं आया .... जहाँ हम किश्तों में मर रहे होते हैं , वहाँ से सोच की दिशा बदल देनी चाहिए अन्यथा पूरी बेवजह की सोच लिए हम मर जायेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा है आपने वर्ना ये किश्तों की मौत जारी ही रहेगी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबसे अच्छा तरीका है मौत जैसे क्षणों से बाहर आने का !

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...