मंगलवार, 7 फ़रवरी 2012

कठिनाईयों से डर कैसा ?

कठिनाई ना हो तो मकसद ना हो
मकसद ना हो तो रास्‍ते नहीं, रास्‍ते नहीं तो मंजिल नहीं
 .. तो कठिनाईयों से डर कैसा ?

- रश्मि प्रभा 

5 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा है ... कठिनाइयां नए रास्तों को खोलती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कठिनाई ना हो तो मकसद ना हो
    मकसद ना हो तो रास्‍ते नहीं, रास्‍ते नहीं तो मंजिल नहीं
    *****************************************
    कठिनाइयो से डर नहीं...... केवल ये पताहो ,डगर सही है.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. हां आपने शायद सही कहा दी..
    मगर कभी कभी तोड़ देती हैं कठिनाइयाँ..

    सादर.
    शुक्रिया सदा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सही कहा है आपने..
    आपकी बाते तो जैसे उर्जा लाती है
    और मन में नए विश्वास जगाती है...

    उत्तर देंहटाएं

यह प्रेरक विचार आपके प्रोत्‍साहन से एक नये विचार को जन्‍म देगा ..
आपके आगमन का आभार ...सदा द्वारा ...